भारतीय मुद्रा से जुड़े रोचक तथ्य एवं इतिहास

भारतीय मुद्रा से जुड़े रोचक तथ्य एवं इतिहास

पांच सौ और एक हजार के नोट बंद होने से लगभग सब जगह अफरातफरी मच चुकी है, लोगो को परेशानियों का सामना करना पड़ रहा है। लेकिन क्या आप सभी जानते है की भारतीय इतिहास में पहले भी बड़े नोट बंद किये गए है। जी हाँ, आपने सही सुना 38 साल पहले भी सरकार ने बड़े नोटों को बंद करने का निर्णय लिया था। माना जाता है की उस समय 144 करोड़ रुपये जमा नहीं किये गए थे। जो की कालेधन के रूप में लोगो के पास रह गए थे।

आज कल के जीवन में कोई भी व्यक्ति बिना धन की बिना नहीं रह सकता। अपनी और परिवार की जरूरतों को पूरा करने के लिए धन अति आवश्यक है। तो इस बार अपने सभी पाठको के लिए हम लाये है, भारतीय मुद्रा से जुड़े रोचक तथ्य एवं इतिहास।

यह भी देखे – उत्तराखंड के चुनाव में भी होगा 500, 1000 के नोट बैन का असर

भारतीय मुद्रा का इतिहास

  • भारतीय मुद्रा को रिज़र्व बैंक छापता है।
  • भारत में सर्वप्रथम 5, 10, 100 और 1000 रुपये के नोट 1938 में छापे गए थे।
  • 1946 में 1000 ओर 10000 के नोट बंद कर दिए गए थे।
  • 1954 में फिर से बड़े नोट छपे गए, इस वर्ष 1000, 5000 और 10000 के नोट छापे गए।
  • 1978 में 1000, 5000 और 10000 के नोट पूरी तरह से बंद कर दिए गए।
  • 1987 में पहली बार भारत में 500 के नोट छापे गए।
  • 2000 में पहली बार 1000 रुपये के गाँधी जी वाले नोट छापे गए।
  • 2005 से नोटों में वॉटरमार्क एवं सुरक्षा धागे लगाए गए।
  • 2016 में 500 और 1000 के नोट बंद केर दिए गए एवं नए 500 और 2000 के नोट छापे गए।

उम्मीद करते है आपको यह भारतीय मुद्रा से जुड़े रोचक तथ्य पसंद आये होंगे।  कॉमेंट बॉक्स में अपनी राय देना न भूले एवं शेयर भी करें।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *