पौड़ी गढ़वाल के दर्शनीय स्थल – Places to visit in Pauri

हिमालय की वादियों से घिरा हुआ पौड़ी गढ़वाल उत्तराखंड की खूबसूरत जगहों में से एक है। पहाड़ों में बसा यहाँ जिला हरे भरे जंगलों से भरपूर है। यहाँ की एक-एक जगह दर्शनीय है। पौड़ी जिला उत्तराखंड राज्य के गढ़वाल मंडल में आता है। पौड़ी को गढ़वाल का दिल भी कहा जाता है। गढ़वाली यहाँ की प्रमुख भाषा है, साथ ही हिंदी व अंग्रेजी भी बोली जाती है। सुहाने वातावरण के लिए प्रसिद्ध पौड़ी गढ़वाल बहुत ही सुंदर जगह है। और यहाँ अलकनंदा, मधुगंगा एवं नयार नदियां (पूर्वी नयार, पश्चिमी नयार) भी बहती है।  यह उत्तर मैं चमोली, रुद्रप्रयाग और टिहरी , दक्षिण मैं उधमसिंह नगर, पूर्व मैं नैनीताल और पश्चिम मैं देहरादून और हरिद्वार से सटा हुआ है।

पौड़ी गढ़वाल के दर्शनीय स्थल – Places to visit in Pauri

पौड़ी गढ़वाल के दर्शनीय स्थल

अगर आप पौड़ी गढ़वाल घूमने का मन बना रहें है तो यह पोस्ट आप के लिए ही है। क्योंकि आज हम आप के सम्मुख ले कर आये है पौड़ी के सभी दर्शनीय स्थल की सूची उनकी विशेषताओ के साथ। पौड़ी पहले से ही उत्तराखंड के बेहतरीन जगहों में शुमार रहा है। पर्यटकों के घूमने के लिए यह एक योग्य स्थान है। यहाँ की संस्कृति, लोकगीत और लोकनृत्य ने पुरे उत्तराखंड में अपनी अमिट छाप छोड़ी है। तो आइये देखते है पौड़ी के प्रसिद्ध दर्शनीय स्थल।

1. लैंसडौन (Lansdowne)

लैंसडौन उत्तराखंड राज्य की एक बहुत बड़ी छावनी जगह है। यह गढ़वाल राइफल(Garhwal Rifle) का प्रशिक्षण केंद्र(training Center) है। पौड़ी गढ़वाल जिले में स्थित यह खूबसूरत इलाका समुद्र तल से 1700km ऊंचाई पर है। यहाँ की प्राकृतिक खूबसूरती एवं सुहाना मौसम सब को अपना दीवाना बना लेता है। कहा जाता है कि यहाँ से सूर्यास्त का सबसे बेहतरीन दृश्य दिखाई देता है। पहाड़ों के मध्य बसा यह हिल स्टेशन पर्यटन के लिए बहुत ही अच्छी जगह है। बर्फ़बारी होने के बाद यह जगह और भी शोभायमान हो जाती है। खूबसूरत होने के साथ-साथ  यह जगह शांत भी है।

लैंसडौन में प्रकृति का आनंद लेने के लिए आप टिप इन टॉप भी जा सकते है, यहाँ से बर्फीली चोटियों का खूबसूरत दृश्य दिखाई देता है। साथ ही पास में यहाँ 100 साल से भी ज्यादा पुराना सेंट मैरीज़ चर्च है। लैंसडौन से कुछ ही दुरी पर भगवान शिव का प्राचीन ताड़केश्वर मंदिर भी है। दरवान सिंह रेजिमेंट म्यूजियम (Darwan Singh Regimental Museum) और भुल्ला ताल(Bhulla taal) भी लैंसडौन के प्रमुख पर्यटन स्थल है।

परिवार के साथ पिकनिक मनाने के लैंसडौन सबसे उचित पहाड़ी इलाका(Best Hill Station in Uttarakhand) है।  साथ ही यहाँ रहने की भी उचित व्यवस्था भी है। यहाँ बहुत सारे होटल्स है जहाँ आप रात्रि विश्राम कर  सकते है। (Hotels in Lansdowne)

2. कोटद्वार (Kotdwar)

कोटद्वार को “गढ़वाल का द्वार” भी कहा जाता है। पौड़ी की शुरुआत कोटद्वार से ही होती है। पौड़ी गढ़वाल में किसी भी जगह जाने के लिए कोटद्वार से ही हो कर जाना पड़ता है।  यह पौड़ी गढ़वाल का महत्वपूर्ण व्यापार का केंद्र है। पौड़ी का एकमात्र रेलवे स्टेशन कोटद्वार में ही उपस्थित है जो कि देश के पुराने रेलवे स्टेशनों में से एक है। कोटद्वार शहर कुछ मंदिरों की उपस्थिति के लिए भी प्रसिद्ध है, जिसमे से सबसे प्रसिद्ध है सिद्धबली मंदिर (Sidhbali Mandir)। हनुमान जी का यह मंदिर कोटद्वार शहर से 2 km की दूरी पर स्थित है।

कोटद्वार में कण्वाश्रम, सेंट जोसेफ चर्च, दुर्गा देवी मंदिर आदि जगहों में परिवार के साथ जा कर आप पिकनिक का आनंद ले सकते है। कोटद्वार एक शहरी इलाका है यहां रहने की भी उचित व्यवस्था है।

3. श्रीनगर (Srinagar)

पौड़ी बाजार से 29 km की दूरी पर स्थित श्रीनगर पौड़ी गढ़वाल का सबसे बड़ा शहर है। श्रीनगर, गढ़वाल का अंतिम मैदानी इलाका(plains) है। इसके बाद पहाड़ी इलाका शुरू हो जाता है। अलकनंदा नदी के किनारे बसा यह शहर प्राकृतिक खूबसूरती के लिए प्रसिद्ध है। उत्तराखंड का पवित्र धारी देवी मंदिर यहाँ से 15 km की दूरी पर स्थित है।

श्रीनगर घूमने के लिए एक अच्छी जगह है। यहाँ कुछ धार्मिक जगह जैसे कमलेश्वर महादेव, किलकिलेश्वर महादेव, शंकरमठ, चोपड़ा मंदिर, राजराजेश्वरी और गौरा देवी मंदिर है जहाँ आप अपने परिवार के साथ जा सकते है।

श्रीनगर को पौड़ी गढ़वाल का शिक्षा शहर (education city) भी कहा जाता है। गढ़वाल की सबसे बड़ी यूनिवर्सिटी हेमवती नंदन बहुगुणा गढ़वाल यूनिवर्सिटी(HNB Garhwal University) का मुख्यालय श्रीनगर में है। यहाँ उत्तराखंड का सबसे सस्ता सरकारी ऍम बी बी एस (MBBS) कॉलेज National Institute of Technology Uttarakhand भी है। साथ ही एक पॉलीटेक्निक, बी.एड एवं आई टी आई कॉलेज भी है।

4. पौड़ी बाजार (Main Pauri)

पौड़ी गढ़वाल का मुख्यालय पौड़ी बाजार में स्थित है। पौड़ी बाजार उत्तराखंड का प्रसिद्ध पहाड़ी इलाका है। यहाँ से हिमालय का मनमोहक दृश्य दिखाई देता है। सर्दियों में बर्फ़बारी के बाद यह बाजार और भी आकर्षक हो जाता है। पहाड़ में बसा यहाँ इलाका मन को मोह लेने वाला है। हर वर्ष यहाँ लाखो की संख्या में पर्यटक आते है। यहाँ बाजार से 2km दूर कंडोलिया मंदिर घूमने के लिए सब से अच्छी जगह है। इसके नज़दीक खूबसूरत पार्क और खेलने का स्थान भी है। कंडोलिया से कुछ ही दुरी पर एशिया का सबसे ऊँचा स्‍टेडियम रांसी भी है। जो की लगभग 2000 मीटर की ऊंचाई पर स्थित है।

ज्वाल्पा देवी, क्यूंकालेश्वर मंदिर, नागदेव मंदिर, लक्ष्मी नारायण मंदिर और खिरसू, पौड़ी बाजार के मुख्य पर्यटक स्थल है जहाँ आप पर्यटन का आनंद ले सकते है। यहाँ रहने के लिए बाजार में बहुत से होटल एवं लॉज भी है।

5. सतपुली (Satpuli)

नयार नदी के किनारे बसा सतपुली नयारघाटी के नाम से प्रसिद्ध है। पौड़ी बाजार और कोटद्वार के मध्य स्थित यह बाजार पौड़ी गढ़वाल का केंद्र स्थान है। यहाँ मछली पकड़ने(fishing) के लिए आप नयार नदी में भी जा सकते है। सतपुली का नयारघाटी पंचायत महोत्सव (Nayarghati Panchayat Mahotsav Satpuli) भी बहुत प्रसिद्ध है। इस कार्यक्रम में गढ़वाल के जाने माने कलाकार शिरकत करने आते है। दिसम्बर – जनवरी में आप इस महोत्सव का आनंद ले सकते है।

सतपुली में आप अपने परिवार के साथ दंगलेश्वर महादेव, माँ भुवनेश्वरी देवी मंदिर और नौगांव कमंदा घूमने जा सकते है। यह तीनो बहुत ही प्रसिद्ध प्राचीन मंदिर है।

पौड़ी गढ़वाल के अन्य दर्शनीय स्थल

इन जगहों से अलग आप पौड़ी गढ़वाल में घूमने के लिए डांडा  नागराज, भैरव गढ़ी , गुमखाल, चौखम्बा व्यू पॉइंट, एकेश्वर इत्यादि जगह जा सकते है। पौड़ी उत्तराखंड का एक बहुत ही खूबसूरत सा हिस्सा है, आप भी पौड़ी गढ़वाल आ कर यहाँ की सुंदरता का आनंद ले सकते है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

"You are never too old to set another goal or to dream a new dream."
Read more thoughts